Breaking News

CM धामी ने पौड़ी बस हादसे के घटनास्थल का किया स्थलीय निरीक्षण, अधिकारियों को आवश्यक कार्रवाई के दिए निर्देश

देहरादून: उत्तराखंड की बड़ी खबर पौड़ी गढ़वाल जिले के बीरोखाल इलाके में करीब 45 से 50 लोगों को ले जा रही एक बस खाई में गिरी। बस दुर्घटना में 25 लोगों की मृत्यु हो गयी। पुलिस और SDRF ने बचाव अभियान चलाकर 21 लोगों को बचा लिया है। घायलों को पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार ने इसकी पुष्टि की है।

जानकारी के मुताबिक, कोटद्वार रिखणीखाल बीरोंखाल मार्ग पर सिमंडी के पास बारातियों से भरी एक बस अनियंत्रित होकर पूर्वी नयार नदी की घाटी में जा गिरी। हादसा मंगलवार देर शाम 7:00 बजे का है। बस में 45 से ज्यादा लोग सवार थे। रात भर पुलिस और SDRF ने बचाव अभियान चलाया।

घटनास्थल पर पहुँच गए सीएम धामी
सीएम पुष्कर सिंह धामी ने दुर्घटना की सूचना मिलते ही मोर्चा संभाल लिया था। वे रात में ही राज्य सचिवालय स्थित राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र पहुंचे, उन्होंने वहाँ तैनात अधिकारियों से दुर्घटना के बारे में जानकारी ली और आज सुबह वे घटनास्थल पर भी पहुँच गए। सीएम धामी ने वहाँ के लोगों से मुलाकात की और जिला प्रशासन के अधिकारियों से दुर्घटना के बारे में जानकारी मांगी।

पुष्कर सिंह धामी ने घायलों से मुलाकात की। साथ ही दुर्घटना से प्रभावित हुए परिजनों से मिलकर अपनी शोक संवेदनाएं व्यक्त की। उनको हर संभव मदद का भरोसा दिया। वहीं पौड़ी गढ़वाल बस दुर्घटना पर डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि बस में करीब 45-47 लोग थे जिसमें से 20 लोगों को बचाया है और इनमें से 2-3 लोग गंभीर हालत में हैं। अभी तक की जानकारी के मुताबिक, 25 लोगों की मृत्यु हो चुकी है और करीब 15 शवों को ऊपर लाया जा चुका है।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने 4 अक्तूबर को उत्तरकाशी और पौङी की घटनाओं में प्रभावितों को आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है। दोनों घटनाओं में मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख रूपये, गम्भीर घायल को 1-1 लाख रूपये और सामान्य घायल को 50-50 हजार रूपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को उक्तानुसार सहायता राशि प्रभावितो को तत्काल उपलब्ध कराये जाने के निर्देश दिये हैं।

SDRF की टीम जुटी रेस्क्यू में
सीएम धामी ने ट्वीट करते हुए बताया कि राज्य आपदा मोचन बल। SDRF की टीम घटनास्थल पर रेस्क्यू कार्य में जुटी हुई है। सभी सुविधाएं दुर्घटना स्थल तक पहुंचाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। बचाव अभियान में स्थानीय लोग भी काफी मदद कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.