जम्मू-कश्मीर के दिहाड़ी मजदूर की यह बेटी बिना किसी ट्यूशन के 10वीं बोर्ड में 99.8% अंक हासिल कर बन गई टॉपर

जम्मू-कश्मीर : अगर बच्चों के अंदर पढ़ने की चाहत हो तो वो सुख-सुविधा और अच्छे-महंगे स्कूलों के बिना भी अपनी काबिलियत साबित कर देते है। ऐसा ही कुछ जम्मू-कश्मीर की एक बेटी ने कर दिखाया है। जिसने दसवीं बोर्ड (10th Board) की परीक्षा में 99.8 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं और चौंकाने वाली बात तो यह है कि उसने बिना किसी ट्यूशन के एक मात्र स्कूल की पढ़ाई और अपनी मेहनत और काबिलियत के बल पर ऐसा कर दिखाया है। जिससे स्कूल और घर-परिवार के लोग बेहद खुश हैं।

बता दें, इस टॉपर (Topper) का नाम रीतिका शर्मा (Ritika Sharma) है। जिसनें जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के उधमपुर जिले से रामनगर क्षेत्र के बधोले गांव से दसवीं बोर्ड की परीक्षा में 99.8 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं। न्यूज एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक उसके पिता राज्य के लोक निर्माण विभाग में दिहाड़ी मजदूर हैं। रितिका के पिता अशोक कुमार ने अपनी बेटी के इस कामयाबी पर अपनी खुशी जाहिर करते हुए कहा कि, ‘हमें खुशी है कि हमारी बेटी ने 10वीं की परीक्षा पास की है। यह हमारे पूरे परिवार के लिए बहुत बड़ा पल है। उसने 500 (99.8%) में से 499 अंक प्राप्त करके और जम्मू प्रांत (ग्रीष्मकालीन क्षेत्र) के टॉपर बनकर हम सभी को गौरवान्वित किया है।’

गौरतलब है कि रीतिका शर्मा ने भी अपनी काबिलियत के दम पर 99.8% हासिल करके बेहद प्रसन्न है। रीतिका ने कहा, ‘मैं अपने प्रदर्शन से खुश हूं। गांव में ट्यूशन नहीं है। मेरे पिता पीडब्ल्यूडी विभाग में दिहाड़ी मजदूर हैं।हमारे स्कूल के शिक्षकों ने हमें अच्छी तैयारी करने में मदद की। मैं एनडीए या यूपीएससी परीक्षा पास करके सेना अधिकारी बनना चाहती हूं और देश की सेवा करना चाहती हूं।’