मोबाईल मेडिकल यूनिट के माध्यम से अब तक 9 हजार मरीजों का हुआ उपचार

महासमुंद : 8 हजार लोगों को दी गई नि:शुल्क दवाइयां, 1500 व्यक्तियों का किया गया लैब टेस्टमुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना अंतर्गत अब तक 135 से ज्यादा कैम्पों में 9000 मरीज स्वास्थ्य परीक्षण कराने आएं। आठ हजार लोगों को जरूरी नि:शुल्क दवाइयां दी गई। वहीं 1500 व्यक्तियों का विभिन्न बीमारियों का लैब टेस्ट किया गया। शहरी स्लम बस्तियों में रहने वाले लोगों को और बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से मोबाईल मेडिकल यूनिट की सुविधा प्रारंभ कर दूरस्थ अंचल के जरूरतमंद लोगों तक स्वास्थ्य परीक्षण के लिए बेहतर साधन उपलब्ध कराया गया है। इस मोबाइल मेडिकल यूनिटों में एमबीबीएस डॉक्टर जिले की स्लम बस्तियों में कैंप लगाकर मरीजों को स्वास्थ्य सुविधाएं दे रहें है। एमबीबीएस डॉक्टर के साथ कैम्प में मुफ्त दवा वितरण के लिए फार्मासिस्ट, मुफ्त लैब टेस्ट करने के लिए लैब मरीजों तक मुफ्त जांच, उपचार और दवा की सुविधा पहुंचाई जा रही है। बता दें कि 01 नवंबर 2020 को मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना की शुरूआत मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने की थी।

वर्तमान में दो मोबाईल मेडिकल यूनिट जिले में संचालित है। जिसमें एक महासमुंद नगरीय क्षेत्र और दूसरी मोबाईल मेडिकल यूनिट सरायपाली में है। इसके जरिए लोगों का खून जांच, थायराइड, मलेरिया, टाइफाइड, ईसीजी, ब्लड प्रेशर, पल्स, आॅक्सीमीटर के साथ अन्य जांच कुशल लैब टेक्नीशियन एवं अत्याधुनिक सुविधा वाली मशीनों से की जाएगी। मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना का शिविर सभी वार्डों में रूट के अनुसार संचालित किया जा रहा है। मोबाईल मेडिकल यूनिट अंतर्गत लगने वाले कैम्प और स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने वालों की संख्या में इजाफा हो रहा है। मरीज मोबाईल मेडिकल यूनिट के माध्यम से इलाज करा रहे हैं। मोबाइल मेडिकल यूनिटों के जरिए अब तक 135 कैम्प लगाए गए हैं। महासमुंद में 60 और सरायपाली नगरीय क्षेत्र में 26, बागबाहरा में 19, पिथौरा में 12, बसना में 11 और तुमगॉव नगरीय क्षेत्र में 7 मोबाईल मेडिकल यूनिट कैम्प लगे हैं।

मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना के माध्यम से स्लम इलाकों में रहने वाले नागरिकों के इलाज और उनके स्वास्थ्य परीक्षण के लिए मोबाइल मेडिकल यूनिट सुविधा प्रारम्भ की गई है। अब स्लम इलाकों में रहने वाले क्षेत्र के नागरिकों को इलाज और मेडिकल जांच के लिए कहीं भी भटकना नहीं पड़ रहा। यह मोबाइल मेडिकल यूनिट स्लम इलाकों में जा रही है। जिले में अभी फिलहाल दो मोबाईल मेडिकल यूनिट है। एक महासमुंद दूसरी सरायपाली में है। मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजनांतर्गत महासमुंद को शहरी क्षेत्रों में एक मोबाईल मेडिकल यूनिट (एमएमयू) सुविधा नगरपालिका को मिल गई है और एक यूनिट सरायपाली में है। नगरपालिका अधिकारी आशीष तिवारी ने बताया कि स्लम बस्तियों का रूट चार्ट तैयार कर कैम्प लगाए जा रहें हैं।

धन्वंतरी जेनेरिक मेडिकल स्टोर को दवाइयों का आॅर्डर भी दिया जा रहा है। अब जिले के शहरी क्षेत्रों की झुग्गी बस्तियों में निवासरत लोगों की नियमित जांच, उपचार, दवा का लाभ और बेहतर एवं सरल तरीके से सुविधा मिल रही है। जिससे स्लम इलाकों में रहने वाले लोग ना सिर्फ इन मोबाईल मेडिकल यूनिट पर डॉक्टरों से अपना इलाज करा सकेंगे, साथ ही यहां से दवाइयां और कई जरूरी टेस्ट भी मुफ्त किए जा रहे है। अब जिले में स्लम बस्तियों के मरीजों को मुफ्त जांच, उपचार और दवा की सुविधा और बेहतर तरीके से मिल रही है। आधुनिक उपकरण से सुसज्जित मोबाईल मेडिकल यूनिट स्वास्थ्य सेवाएं देगी। मोबाईल मेडिकल यूनिट में 14 प्रकार के विभिन्न लैब टेस्ट किए जाते हैं। कैंप लगाकर डॉक्टर, लोगों की जांच कर रहे है।