एकनाथ शिंदे के साथ 35 विधायक, MVA सरकार अल्पमत में; चंद्रकांत पाटिल का दावा

मुंबई: महाराष्ट्र में राजनीतिक घमासान लगातार जारी है। वहीं, एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) के पार्टी छोड़ गुजरात में डेरा डालने के बाद कई तर्क वितर्क लगाए जा रहे है। तो दूसरी तरफ, उनका पार्टी छोड़ कर जाना उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackarey) के नेतृत्व वाली महा विकास आघाडी (MVA Government) सरकार को संकट में डाल सकती है। इस बीच, महाराष्ट्र भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल (Chandrakant Patil) ने कहा “कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी, हम फिलहाल इंतजार कर रहे हैं और स्थिति पर नजर रख रहे हैं। न ही एकनाथ शिंदे ने भाजपा को सरकार गठन का प्रस्ताव भेजा है और न ही भाजपा ने उन्हें कोई प्रस्ताव भेजा है।”

महाराष्ट्र भाजपा अध्यक्ष ने कहा “राज्यसभा और एमएलसी चुनावों के लिए बीजेपी को निर्दलीय और छोटे राजनीतिक दलों का समर्थन मिला। हमारी जानकारी के अनुसार एकनाथ शिंदे और 35 विधायक जा चुके हैं। इसका मतलब है कि तकनीकी रूप से राज्य सरकार अल्पमत में है लेकिन व्यावहारिक रूप से सरकार को अल्पमत में आने में कुछ समय लगेगा।”

चंद्रकांत पाटिल ने यह भी कहा “अभी तक ऐसी कोई स्थिति नहीं है जो अविश्वास प्रस्ताव के लिए विशेष सत्र बुलाए जाने की मांग की जाए। 18 जुलाई से विधानसभा का सत्र शुरू होगा और फिर हम इस पर गौर करेंगे।”

शिवसेना ने शिंदे को विधायक दल के नेता के पद से हटाया
इससे पहले, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पार्टी के शीर्ष नेताओं एवं विधायकों ने एक बैठक की। वहीँ, बैठक के बाद शिवसेना ने एकनाथ शिंदे को अपने विधायक दल के नेता पद से हटाने का फैसला किया। वहीं, सेवरी से विधायक अजय चौधरी शिवसेना विधायक दल के नए नेता होंगे।

सत्ता के लिए कभी धोखा नहीं देंगे
शिवसेना के इस कार्रवाई के बाद, एकनाथ शिंदे ने ट्वीट कर लिखा, ‘हम बालासाहेब के पक्के शिवसैनिक हैं… बालासाहेब ने हमें हिंदुत्व सिखाया है.. बालासाहेब के विचारों और धर्मवीर आनंद दीघे साहब की शिक्षाओं के बारे में सत्ता के लिए हमने कभी धोखा नहीं दिया और न कभी धोखा देंगे।’ गौरतलब है की शिवसेना नीत महा विकास अघाडी MVA सरकार को सोमवार को उस समय झटका लगा था, जब महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव में उसे हार मिली थी। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस भी MVAका हिस्सा हैं।