असम में भारी बारिश ने मचाई तबाही, बाढ़ और भूस्खलन से हाहाकार

गुवाहाटी। असम (Assam) में भारी बारिश (Heavy rain) के कारण शहरों में भी बाढ़ जैसी स्थिति (Flood-like situation in cities) पैदा हो गई. राज्य में पिछले कई दिनों से बारिश हो रही है. मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि 17 जून तक असम में तेज बारिश होती रहेगी. यानी फिलहाल इस विपदा का दो दिनों तक अंत नहीं है।

भारी बारिश के कारण सबसे ज्यादा असर असम के पहाड़ी जिलों में देखा जा रहा है. पहाड़ों पर भूस्खलन हो रहा है जिससे कई मार्ग बाधित हो गए हैं. पहाड़ी जिला दिमा हसाओ में भारी बारिश हो रही है. इसके कारण कई जगहों पर भूस्खलन की खबर हैं. कुछ लोग ऊंचाई वाले जगहों पर भी फंसे हुए हैं जिन्हें निकालने के लिए आपदा प्रबंधन की टीम लगी है।

राजधानी गुवाहाटी में भी भारी बारिश के कारण सड़कों पर पानी जमा हो गया है जिसके कारण ट्रैफिक जाम की समस्या खड़ी हो गई है। भारी बारिश से शहर के राजधानी गुवाहाटी के कई हिस्सों में सड़कों पर पानी भर गया है – इनमें सबसे ज्यादा प्रभावित अनिल नगर, नबीन नगर, राजगढ़ लिंक रोड, रुक्मिणीगांव, हाटीगांव और कृष्णा नगर हैं।

एनडीआरएफ और एसडीआरएफ के जवान बाढ़ में फंसे लोगों को बचाने और उन्हें राहत सामग्री मुहैया कराने के लिए नावों का इस्तेमाल कर रहे हैं। बाढ़ प्रभावितों लोगों को मदद पहुंचाने के लिए सीमा पर तैनात बीएसएफ के जवान भी मुस्तैद हैं. सीमाई जिला कछार में बीएसएफ के जवान आपदाग्रस्त लोगों को भोजन का किट बांट रहे हैं. यह राशन किट रिलायंस फाउंडेशन की तरफ से असम में बाढ़ प्रभावित लोगों को मदद पहुंचाने के लिए दिए जा रहे हैं।

कामरूप मेट्रोपॉलिटन जिला प्रशासन ने लोगों से अपील की है कि वे जरूरी काम होने पर ही अपने घरों से बाहर निकलें. कामरूप मेट्रोपॉलिटन के उपायुक्त पल्लव गोपाल झा ने क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र (आरएमसी) द्वारा जारी बारिश की चेतावनी के मद्देनजर सभी स्कूलों, कॉलेजों और शैक्षणिक संस्थानों को कक्षाएं निलंबित करने का निर्देश जारी किया है।