Breaking News

वनटांगियां मजदूर का घर किया जमींदोज, विरोध करने पर पर परिजनों से मारपीट

बहराइच के मूर्तिहा क्षेत्र के ककरहा का मामला, भुक्तभोगी ने वनविभाग टीम के खिलाफ पुलिस से की शिकायत, लगाई न्याय की गुहार

बहराइच : गुरुवाार शाम को वन विभाग की टीम ने ककरहा निवासी सुरेश जायसवाल के घर में घुसकर तोड़फोड़ की तथा जेसीबी लगाकर घर को तहस-नहस कर दिया। विरोध करने पर उनकी माता तथा बेटे के साथ मारपीट भी की, जिससे उनकी मां को गंभीर चोट आयी है। भुक्तभोगी ने पुलिस को प्रार्थनापत्र देकर न्याय की गुहार लगाई है। बता दें कि सीएम योगी ने अधिकारियों को सख्त निर्देश दिये हैं कि गरीब की झोपड़ी पर बुलडोजर की कार्रवाई नहीं होनी चाहिए, यह केवल पेशेवर अपराधियों और भूमाफियाओं के लिए है। गरीब अगर​ किसी अनधिकृत जगह घर बनवा भी लिया है, तो पहले उसे कहीं घर आवंटित किया जाए, फिर उसकी सहमहित से ही उसे दूसरी जगह पुनस्र्थापित किया जाये।

बता दें कि सुरेश जायसवाल एक परंपरागत वन निवासी हैं। उनके बाबा लगभग 1914-15 में जंगल क्षेत्र में वनटांगिया मजदूर के रूप में काम करने के लिए यहां आए थे। बाद में जब वनटांगिया पद्धति से जंग लगने का काम चल रहा था तो वन विभाग ने वनटांगिया मजदूरों को ककरहा में जमीन आवंटित कर दी। सुरेश जयसवाल डायबिटीज से पीड़ित व्यक्ति हैं और दोनों गुर्दे खराब हो चुके हैं। किसी तरह चाय-पानी की दुकान करके अपनी आजीविका चलाते हैं। 2005 में वन अधिकार कानून आने के बाद वनवासी के रूप में ककहरा को स्वीकृति मिली। इसमें ग्राम स्तरीय वन अधिकार समिति का गठन भी हो चुका है और दावा सत्यापन के लिए फार्म उपलब्ध कराया जा रहा है।

इसी बीच वन विभाग ने रेंजर राम कुमार के नेतृत्व में अचानक पहुंचकर गुरुवार की शाम को उनके छप्पर वाले घर को जेसीबी लगाकर तहस-नहस कर दिया और विरोध करने पर परिजनों के साथ मारपीट की गयी। वन अधिकार कार्यकर्ता जंग हिंदुस्तानी ने वन विभाग के इस कार्यवाही को वन अधिकार कानून का उल्लंघन बताया है। उन्होंने कहा कि जब तक सत्यापन की प्रक्रिया पूरी नहीं हो जाती है तब तक किसी भी वननिवासी परिवार को हटाया नहीं जा सकता है। वन विभाग रेंजर की यह कार्यवाही निंदनीय है। वन अधिकार आंदोलन, बहराइच इस मुद्दे को लेकर आंदोलन भी करेगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के संज्ञान में भी उक्त प्रकरण को लाकर न्याय की गुहार लगाई गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *