Breaking News

राहुल ही नहीं, सत्तारूढ़ दल पर लगे आरोपों की भी हो जांच : प्रमोद तिवारी

कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने जेपीसी के गठन की मांग की

लखनऊ। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व राज्य सभा सदस्य प्रमोद तिवारी ने सत्तारूढ़ दल भारतीय जनता पार्टी और केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने गुरुवार को यहां पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को जानबूझकर परेशान किया जा रहा है। पार्टी कार्यकर्ता सत्याग्रह कर रहे हैं। कार्यकर्ताओं को घर से निकलने नहीं दिया जा रहा है और न ही उन्हें पार्टी दफ्तर तक पहुंचने दिया जा रहा है। कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने कहा कि भाजपा आरोप लगा रही है कि राहुल गांधी जांच नहीं होने देना चाहते हैं। मैं कहता हूं कि यदि राहुल गांधी और कांग्रेस जांच का विरोध कर रहे होते तो वह इडी दफ्तर जाते ही नहीं। हम कोर्ट में गए होते। भाजपा के कांग्रेस द्वारा जांच एजेंसी पर दबाव के आरोप पर तिवारी ने कहा कि यह बहुत ही स्वाभाविक बात है कि अपने राष्ट्रीय नेता के साथ लोग खड़े ही होंगे। कोई हिंसा नहीं, उपद्रव नहीं, फिर भी पुलिस क्रूरता कर रही है। वरिष्ठ नेता की पसली टूट गयी है। हम सब चोटिल हुए हैं। इसमें कांग्रेस कार्यकर्ताओं की कोई गलती नहीं है।

प्रमोद तिवारी ने कहा कि राहुल गांधी के खिलाफ जो जांच हो रही है वह सिर्फ 90 करोड़ का मामला है। इसके अलावा भी देश में बहुत सारे मुद्दे हैं। सांसद ने कुछ पुराने मुद्दों को कुरेदा। उन्होंने कहा कि प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी अचानक लाहौर पहुंचे थे। कहा गया था कि वह नवाज शरीफ के घर गए हैं, लेकिन एक वरिष्ठ पत्रकार ने अपनी पुस्तक में इससे जुड़े कुछ दूसरे तथ्य प्रस्तुत किए हैं। रक्षा सौदे पर फ्रांस के राष्ट्रपति और ऊर्जा क्षेत्र के एक टेण्डर के मामले में श्रीलंका के राजपक्षे के बयानों की सत्यता की जांच का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा इन मुद्दों की जांच के लिए जेपीसी का गठन किया जाए। उन्होंने कहा कि यह सारे मुद्दे पुराने हैं लेकिन महत्वपूर्ण है। इसलिए जरूरी है कि इसकी जांच हो और चीजें सामने आएं। जेपीसी (ज्वाइंट पार्लियामेंट्री कमेटी) या सुप्रीम कोर्ट के निर्देशन में विशेष जांच कमेटी गठित की जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *