Breaking News

राहुल गांधी ने कांग्रेस को असमंजस में डाला, राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव में फिर हो सकती है देरी

नई दिल्ली : कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए होने वाले चुनाव में कुछ ही दिन बचे हैं। इसके बावजूद राहुल गांधी के चुनाव लड़ने को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है। पार्टी ने घोषणा की थी कि 21 अगस्त से 20 सितंबर के बीच संगठन के चुनाव होंगे, लेकिन कई कोशिशों के बावजूद राहुल गांधी ने अब तक अपना रुख साफ नहीं किया है। कांग्रेस के रणनीतिकार अब तक उन्हें अध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ने के लिए मनाने में विफल रहे हैं, जिससे चुनाव में देरी हो सकती है।

राहुल गांधी ने खुद भी अभी तक चुनाव लड़ने को लेकर कोई स्पष्ट संकेत नहीं दिया है। कोई स्पष्ट जवाब न मिलने के कारण कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक नहीं बुलाई गई है, जिसमें चुनाव की तारीख तय की जानी है। कांग्रेस के केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण के मुताबिक, पार्टी ने चुनाव की तैयारियां पूरी कर ली हैं। मधुसूदन मिस्त्री की अध्यक्षता में प्राधिकरण ने कहा है कि वे समय पर चुनाव के लिए तैयार हैं। अब चुनाव की तारीखों की घोषणा करने के लिए गेंद कांग्रेस कार्यसमिति के पाले में है। हालांकि राज्यों में चुनाव प्रक्रिया अभी तक पूरी नहीं हुई है। मिस्त्री ने कहा, “हम अपने कार्यक्रम पर टिके रहेंगे। चुनाव कार्यक्रम की तारीख सीडब्ल्यूसी पर निर्भर है। इस चुनाव में सभी राज्यों के 9,000 से अधिक प्रतिनिधि मतादाता होंगे।”

कांग्रेस पार्टी द्वारा पूर्व में घोषित कार्यक्रम के अनुसार अध्यक्ष के चुनाव की प्रक्रिया 21 अगस्त से शुरू होनी थी और उसे 20 सितंबर से पहले नए अध्यक्ष का चुनाव करना था। राज्यों के अध्यक्षों का चुनाव भी 20 अगस्त तक होना था, लेकिन अभी तक यह प्रक्रिया किसी भी राज्य में पूरी नहीं हुई है। सूत्रों ने कहा कि राहुल गांधी के रुख पर स्पष्टता की कमी के कारण नेतृत्व असमंजस में है और संगठन को संदेह है कि यह चुनाव के समय तक पूरा हो जाएगा। राहुल गांधी 7 सितंबर को कन्याकुमारी से अपनी भारत जोड़ी यात्रा शुरू करने वाले हैं। यह यात्रा लंबी होने वाली है। इसलिए अगर तब तक चुनाव नहीं हुए तो इसमें और देरी होने की संभावना है। आपको बता दें कि कांग्रेस के आंतरिक चुनाव पहले भी टाले जा चुके हैं।