दक्षिण भारतीय राज्य केरल बना अपनी ख़ुद की इंटरनेट सर्विस वाला देश का एकमात्र और पहला राज्य

नई दिल्ली: इंटरनेट सेवा आज हर किसी की जरूरत है । जब से देश की अर्थव्यवस्था , शिक्षा , स्वास्थ्य हर स्तर पर डिजिटलाइजेशन की प्रक्रिया को बढ़ावा मिला है तब से इंटरनेट एक्सेस को लोग अपनी बुनियादी जरूरत मानने लगे हैं। केरल के मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन ने हाल ही में घोषणा की है कि केरल खुद की इंटरनेट सर्विस वाला देश का पहला राज्य बन गया है।

राज्य सरकार ने अपने सूचना प्रौद्योगिकी अवसंरचना परियोजना ” केरल फाइबर ऑप्टिक नेटवर्क लिमिटेड ” के जरिये यह उपलब्धि हासिल की है। इस पहल के जरिये राज्य सरकार ने अपने प्रत्येक नागरिक तक इंटरनेट सेवा की पहुंच को सुनिश्चित करने की दिशा में काम किया है।

अपने ख़ुद के इंटरनेट सर्विस के लिए राज्य सरकार के केरल फाइबर ऑप्टिक नेटवर्क लिमिटेड को भारत सरकार के डिपार्टमेंट ऑफ कम्युनिकेशन से इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर ( आईएसपी) लाइसेंस मिल गया है। केरल के मुख्यमंत्री का कहना है कि यह कदम राज्य में डिजिटल डिवाइड को दूर करने में मददगार साबित होगा और समाज में लोगों के डिजिटल एंपावरमेंट को मजबूती मिलेगी ।

गौरतलब है कि केरल फाइबर ऑप्टिक नेटवर्क प्रोजेक्ट में यह विचार दिया गया था कि राज्य के निर्धनता रेखा से नीचे रहने वाले परिवारों यानी बीपीएल फैमिली और 30,000 सरकारी कार्यालयों को फ्री इंटरनेट सर्विस उपलब्ध कराई जाएगी और इसी कड़ी में केरल सरकार ने अपनी इस अभूतपूर्व उपलब्धि से देश को परिचित कराया है।

केरल की वर्तमान राज्य सरकार के पहले जो सरकार वहां कार्य कर रही थी , उसने 2019 में इंटरनेट कनेक्शन को एक बेसिक राइट घोषित किया था और 1548 करोड़ रुपए की लागत से केरल फाइबर ऑप्टिक नेटवर्क लिमिटेड प्रोजेक्ट को लांच किया था।