वर्ष 2020-21 राजनीतिक दलों को मिला 593.748 करोड़ का चंदा-ADR रिपोर्ट

नई दिल्ली : कोरोना ने देश के आर्थिक हालातों को झकझोर कर रख दिया था। 2020-21 में देश में कोरोना की वजह से देश ने काफी बुरा दौर देखा है, लेकिन राजनीतिक दलों पर इस बुरे दौर में भी खूब धनवर्षा हुई है।​

खासकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) को दानवीरों ने चंदा देने में कोई कंजूसी नहीं की। एसोसिएशन फोर डेमोक्रेटिक रिफोर्म (ADR) द्वारा गुरुवार को जारी ताजा रिपोर्ट के मुताबिक स्वयं राजनीतिक दलों ने सूचना देकर विभिन्न माध्यम से मिले फंड की जानकारी साझा की है।

ADR रिपोर्ट के मुताबिक वित्त वर्ष 2020-21 में जब कोरोना पीक पर था, तो उस दौरान कुल 593.748 करोड़ का चंदा राजनीतिक दलों को मिला है। इसमें अकेले BJP को 477.545 करोड़ चंदा मिला है। यानी 80 फीसदी से ज्यादा चंदा भाजपा को ही मिला है, जो 6 राष्ट्रीय राजनीतिक दलों (NCP, CPI, CPI(M), कांग्रेस, NPE और तृणमूल ) को मिले चंदे की तुलना में 4 गुणा ज्यादा है।

ADR की रिपोर्ट बताती है कि 2020-21 में 20 हजार रुपए से ज्यादा का चंदा 3753 व्यक्तियों व प्रतिष्ठानों ने दिया है। इनमें से BJP को 2206 ने चंदा दिया है। वहीं कांग्रेस पार्टी को 1077 व्यक्ति व प्रतिष्ठानों ने 74.524 करोड़ रुपए चंदा दिया है,जो BJP की तुलना में लगभग 15 प्रतिशत है।

NCP को 20 हजार रुपए से ज्यादा का चंदा 79 लोगों व प्रतिष्ठानों ने, CPM को 226 ने, CPI को 124, NPEP को 15 और AITC को 26 ने 20 हजार से ज्यादा का चंदा दिया है।

भारत चुनाव आयोग ने सभी दलों को आय एवं खर्च का ब्यौरा देना अनिवार्य कर रखा है। बहुजन समाजवादी पार्टी को छोड़कर किसी भी दल ने निर्धारित समय में इसकी जानकारी निर्वाचन आयोग को साझा नहीं की। ADR के मुताबिक कांग्रेस ने 10 दिन से आय का ब्योरा दिया है, जबकि ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस ने 117 दिन देरी से, CPI(M) ने 136 दिन, नेशनल पीपल पार्टी ने 137 दिन, इंडियन नेशनल पार्टी ने 161 दिन, भारतीय जनता पार्टी ने 164 दिन और CPI ने 178 दिन बाद ब्योरा दिया है।

BJP को 1111 कॉर्पोरेट घरानों ने 416.794 करोड़ रुपए का चंदा दिया है जबकि कांग्रेस को 146 कॉर्पोरेट घरानों ने ही दान दिया है। प्रेडूेंट इलेक्टोरल ट्रस्ट राजनीतिक दलों को दान देने वाला देश का शीर्ष कॉर्पोरेट घराना है। इस ट्रस्ट ने भाजपा को 209 करोड़, एनसीपी को 5 करोड़ और कांग्रेस को 2 करोड़ का चंदा दिया है।