3 बेटियों के बाद बेटा पैदा हुआ तो पिता ने उठाया खौफनाक कदम, सुनकर सब सन्न

रीवा: रीवा जिले में अंधविश्वास में खौफनाक अपराध का मामला सामने आया है. देवी को प्रसन्न करने के लिए एक युवक की बलि दे दी गयी. आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. इस घटना से सब सन्न हैं. नरबलि का ये दिल दहलाने वाला कांड रीवा जिले के बैकुंठपुर थाना इलाके का है. पिछले हफ्ते एक युवक की लाश देवी मंदिर के सामने मुंह के बल पड़ी मिली थी. उसका गला कटा हुआ था और पास में कुल्हाड़ी पड़ी थी. पहली ही नजर में मामला नरबलि का लग रहा था.

बैकुंठपुर पुलिस ने आज युवक की अंधी हत्या का खुलासा करते हुए आरोपी रामलाल प्रजापति को गिरफ्तार कर लिया है. उससे पूछताछ में खौफनाक घटना का राज खुलकर सामने आया. आरोपी को कारागार में बंद कर दिया गया है. बताया जा रहा है कि तीन बेटियों के जन्म से नाखुश होकर आरोपी ने पुत्र प्राप्ति के लिए देवी से मन्नत मांगी थी कि अगर बेटा हुआ तो वह बलि चढ़ाएगा. मन्नत पूरी होने के बाद उसने गांव के एक युवक की गला काटकर हत्या कर दी और उसके शव को देवी के चरणों पर रखकर फ़रार हो गया था.

बैकुंठपुर थाने के बेढ़ौआ गांव स्थित देवी मंदिर में मिले शव के मामले में यह सनसनीखेज खुलासा हुआ है. बेढ़ौआ गांव में एक चबूतरे पर देवी की प्रतिमा स्थापित है. मंदिर के पास 6 जुलाई को युवक का शव मिला था. उसकी गला काटकर हत्या की गई थी. दूसरे दिन युवक की पहचान क्योंटी निवासी दिव्यांश कोल के रूप में हुई थी. पूछताछ में पुलिस को पता चला कि दिव्यांश के साथ आखिरी बार गांव का रामलाल प्रजापति देखा गया था. संदेह के आधार पर रामलाल को हिरासत में लेकर पुलिस ने पूछताछ की तो घटना का खौफनाक सच सामने आ गया.

मन्नत पूरी करने का खौफनाक तरीका
आरोपी ने बताया कि उसकी तीन बेटियां थीं. उसे एक बेटे की चाह थी. उसने देवी से मन्नत मांगी थी. बेटा हुआ तो मन्नत पूरी करने के लिए वो लड़के की तलाश कर रहा था. घटना वाले दिन दिव्यांश कोल उसे बकरियां चराते हुए मिल गया. सुनसान पाकर वह युवक को अपने साथ बेढ़ौआ गांव स्थित देवी मंदिर ले आया और कुल्हाड़ी से गला काट दिया. घटना को अंजाम देकर आरोपी फरार हो गया. बताया गया कि आरोपी तंत्रमंत्र और गांव में झाड़फूंक भी करता है.