स्टेट बैंक का एमसीएलआर में फिर 0.10 फीसदी का इजाफा

नई दिल्ली। देश और सार्वजनिक क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक (largest public sector bank) स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) (State Bank of India (SBI)) ने अपने ग्राहकों का जोरदार झटका दिया है। एसबीआई ने गुरुवार को फिर अलग-अलग अवधि के कोष की सीमांत लागत आधारित ब्याज दर (एमसीएलआर) (Marginal cost based interest rate (MCLR)) में 0.10 फीसदी का इजाफा (hiked by 0.10 percent) किया है। बैंक की बढ़ी हुई नई एमसीएलआर दरें 15 जुलाई से लागू होंगी।

इस बढ़ोतरी के बाद एक रात, एक महीने और 3 महीने के लिए बैंक का एमसीएलआर 7.05 फीसदी से बढ़कर 7.15 फीसदी हो जाएगा। छह महीने की अवधि वाले कर्ज के लिए एमसीएलआर 7.35 फीसदी से बढ़कर 7.45 फीसदी हो गया है। इसी तरह एक साल का एमसीएलआर 7.40 फीसदी से बढ़कर 7.50 फीसदी हो जाएगा, जबकि दो साल के लिए एमसीएलआर 7.7 फीसदी से बढ़कर 7.8 फीसदी हो जाएगा।

उल्लेखनीय है कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) के रेपो रेट में इजाफा के बाद स्टेट बैंक ने इससे पहले जून में एमसीएलआर बढ़ाया था। हालांकि, आरबीआई के रेपो रेट में बढ़ोतरी के बाद एचडीएफसी, इंडियन ओवरसीज बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा सहित कई बैंकों ने इससे पहले इसी महीने एमसीएलआर आधारित ब्याज दरों में इजाफा किया है। बैंको की ब्याज दरों में बढ़ोतरी से होम, ऑटो और कार लोन महंगा हो जाएगा।