मणिपुर लैंडस्लाइड में सेना के 7 जवानों समेत 14 की मौत, 25 जवान अब भी लापता

मणिपुर : मणिपुर के नोनी जिले में सेना के कैंप पर भूस्खलन से सेना के 7 जवानों समेत 14 लोगों की मौत हो गई. जबकि 25 जवान अब भी दबे हुए हैं. रेस्क्यू ऑपरेशन अभी भी चल रहा है. मणिपुर लैंडस्लाइड से भारी तबाही हुई है. भारी बारिश की वजह से बुधवार रात अचानक पहाड़ दरका और भारतीय सेना का कैंप तबाह हो गया. जिस वक्त ये हादसा हुआ कैंप में बड़ी संख्या में जवान मौजूद थे.

डीजीपी पी डोंगल का कहना है कि 23 लोगों को बाहर निकाला जा चुका है जिसमें 14 लोगों की मौत हो चुकी है. बाकी लोगों की तलाश की जा रही है. सेना के जवान, रेलवे के कर्मचारी, गांववाले और मजदूरों को मिलाकर लगभग 60 लोगों के दब होने की आशंका है. कल दिनभर चले ऑपरेशन के बाद सेना के 7 जवानों के शव निकाले गए जबकि 13 जवानों को सुरक्षित बचाया गया. अधिकारियों के मुताबिक अभी बड़ी संख्या में जवान लापता हैं. जिनकी तलाश की जा रही है. कैंप पूरी तरह बर्बाद हो गया. खराब मौसम की वजह से रेस्क्यू ऑपरेशन में काफी दिक्कत हो रही है.

मणिपुर के नोनी जिले में इम्फाल-जिरिबम रेलवे लाइन के निर्माण का काम चल रहा है जिसकी सुरक्षा के लिए सेना के जवानों को तैनात किया गया है. टेरिटोरियल आर्मी की 107 कंपनी लैंडस्लाइड की चपेट में आई है. रेस्क्यू ऑपरेशन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नजर है पीएम मोदी ने मणिपुर के सीएम बीरेन सिंह से बात की और हर संभव मदद का भरोसा दिया.