नूपुर शर्मा के विवादित बयान पर बंगाल में बवाल, BJP बोली- सेना तैनात करें

कोलकाता। पैगंबर मोहम्मद (Prophet Muhammad ) के खिलाफ निलंबित भाजपा नेताओं (Suspended BJP leaders) द्वारा की गई विवादास्पद टिप्पणी (Comment Protest) को लेकर पश्चिम बंगाल (West Bengal) में हावड़ा जिले (Howrah district) के विभिन्न हिस्सों में सड़कों और रेलवे पटरियों को अवरुद्ध कर रहे प्रदर्शनकारियों को नियंत्रित करने के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) (Bharatiya Janata Party (BJP)) ने प्रदेश में सेना उतारने की मांग की है. पश्चिम बंगाल में नेता प्रतिपक्ष सुवेंदु अधिकारी ने राज्यपाल जगदीप धनखड़ को लिखा, “आज राज्य में विरोध के मद्देनजर ‘इस भयानक स्थिति को जल्द से जल्द नियंत्रित करने और लोगों की जान व मूल्यवान संपत्ति को बचाने के लिए’ भारतीय सेना या अर्धसैनिक बलों को बुलाने और तैनात करने का अनुरोध करता हूं।”

यह भी पढ़ें | नूपुर के बयान पर रांची में हिंसा और पथराव के बाद लगाया कर्फ्यू
भाजपा के दो पूर्व नेताओं की पैगंबर मोहम्मद को लेकर की गई टिप्पणी के खिलाफ सैकड़ों प्रदर्शनकारियों ने पश्चिम बंगाल के हावड़ा जिले में शुक्रवार को सड़कों को अवरुद्ध किया. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि प्रदर्शनकारियों की धूलागढ़, पंचला और उलूबेरिया में पुलिस के साथ तब झड़प हुई जब उन्होंने राष्ट्रीय राजमार्ग छह की नाकेबंदी खुलवाने की कोशिश की. एक प्रदर्शनकारी ने कहा, “भाजपा के दो नेताओं को उनकी धार्मिक भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी के लिए फौरन गिरफ्तार किया जाना चाहिए।”

पुलिस को करना पड़ा लाठीचार्ज
अधिकारी ने कहा कि धूलागढ़ और पंचला में भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा, जहां प्रदर्शनकारियों ने इसके जवाब में पथराव किया, जिससे पास खड़ी कारों को नुकसान पहुंचा. दक्षिण पूर्वी रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि प्रदर्शकारियों ने हावड़ा-खड़गपुर खंड पर दोपहर एक बजकर 22 मिनट पर फुलेश्वर और चेंगैल स्टेनशनों के बीच की पटरियों को अवरुद्ध कर दिया।

बंगाल इमाम एसोसिएशन के अध्यक्ष मोहम्मद याहिया ने कहा कि संगठन ने भाजपा के पूर्व दो नेताओं की गिरफ्तारी की मांग को लेकर समूचे राज्य में मस्जिदों के अंदर प्रदर्शन का आह्वान किया था. उन्होंने कहा कि प्रशासन सड़कों को अवरुद्ध करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए स्वतंत्र है. भाजपा ने पैगंबर पर टिप्पणी को लेकर मुस्लिम देशों से तीखी प्रतिक्रिया आने के बाद पांच जून को नूपुर शर्मा को पार्टी से निलंबित कर दिया था और नवीन कुमार जिंदल को पार्टी से निष्कासित कर दिया था।