सत्ताधारी दल बीजेपी ने टीवी डिबेट में शामिल होने के नए मानक तय किये

नई दिल्ली: अरब देशों के द्वारा पैगम्बर मुहम्मद पर नूपुर शर्मा के बयान के लगातार जारी विरोध के बाद अब सत्तारूढ़ भाजपा ने अपने प्रवक्ताओं और नेताओं के टीवी डिबेट में शामिल होने के लिए नई सीमाएं तय कर दी हैं। पार्टी नेता नुपुर शर्मा की पैगंबर मुहम्मद पर टिप्पणियों के बाद भारी अंतरराष्ट्रीय प्रतिक्रिया का सामना भारत सरकार और बीजेपी को करना पड़ रहा है। अब बीजेपी ने प्रवक्ताओं के लिए नए नियम बनाए हैं, उसका पालन हर हाल में करना होगा। 

भाजपा सूत्रों का कहना है कि केवल अधिकृत प्रवक्ता और पैनलिस्ट ही टीवी डिबेट में भाग लेंगे और उन्हें मीडिया सेल द्वारा सौंपा जाएगा। प्रवक्ताओं को किसी भी धर्म, उसके प्रतीकों या धार्मिक शख्सियतों की आलोचना करने के खिलाफ चेतावनी दी गई है। भाजपा के पैनलिस्टों को सीमा पार करने से मना किया गया है। डिबेट में प्रवक्ता अपनी भाषा को संयमित रखेंगे और उत्तेजित होने वाला कोई न बयान देंगे न उत्तेजित होंगे। कोई भी प्रवक्ता, पार्टी की विचारधारा या आदर्शों का उल्लंघन नहीं करेगा।

डिबेट में जाने के पहले विषय का पता करे प्रवक्ता

भाजपा ने अपने प्रवक्ताओं को आदेश दिया है कि किसी भी चैनल पर आने से पहले पहले टीवी पर चर्चा के विषय की जांच करें, उसकी तैयारी करें और उस पर पार्टी की लाइन का पता लगाएं। पार्टी साफ कहा कि पार्टी के प्रवक्ता और पैनलिस्ट को एजेंडे पर ही बात करनी है। भाजपा यह भी चाहती है कि उसके प्रवक्ता सरकार के समाज कल्याण कार्यों पर ध्यान दें।

गौरतलब है कि बीजेपी अपने दो प्रवक्ताओं नुपुर शर्मा और नवीन कुमार जिंदल की टिप्पणियों की वजह से कम से कम 15 देशों से निंदा झेल चुकी है।