प्रतापगढ़ी को राज्यसभा चुनाव के लिए टिकट दिये जाने से नाराज कांग्रेस नेता ने पार्टी पद छोड़ा

नागपुर: कांग्रेस (Congress) के केंद्रीय नेतृत्व द्वारा उत्तर प्रदेश के कवि-नेता इमरान प्रतापगढ़ी (Imran Pratapgarhi) को आगामी राज्यसभा चुनाव (Rajya Sabha Election) के लिए महाराष्ट्र (Maharashtra) से उम्मीदवार बनाये जाने से नाराज पार्टी पदाधिकारी आशीष देशमुख (Ashish Deshmukh) ने मंगलवार को महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी (MPCC) के महासचिव पद से इस्तीफा दे दिया।

देशमुख ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेजे एक पत्र में कहा कि ‘‘बाहरी उम्मीदवार को थोपने” से महाराष्ट्र में पार्टी को कोई फायदा नहीं होगा, जहां वह सत्तारूढ़ गठबंधन महा विकास आघाड़ी (एमवीए) की एक घटक है। उन्होंने प्रतापगढ़ी को मैदान में उतारने के फैसले को प्रदेश संगठन के सामान्य कार्यकर्ताओं के साथ अन्याय करार दिया। पूर्व विधायक ने कहा, ‘‘मैं महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी (एमपीसीसी) के महासचिव के पद से इस्तीफा दे रहा हूं। बाहरी उम्मीदवार को थोपने से पार्टी के विकास के मामले में कोई फायदा नहीं होगा। यह महाराष्ट्र में सामान्य कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ अन्याय है।”

देशमुख ने कहा कि वह एक निष्ठावान कांग्रेस सदस्य के रूप में काम करना जारी रखेंगे और सभी प्रतिबद्धताओं को पूरा करेंगे। उत्तर प्रदेश के कांग्रेस नेता प्रतापगढ़ी ने 10 जून को होने वाले राज्यसभा चुनाव के लिए सोमवार को मुंबई में अपना नामांकन पत्र दाखिल किया था। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने भी महाराष्ट्र से प्रतापगढ़ी को मैदान में उतारने के फैसले पर नाराजगी जतायी है।

सोमवार को चव्हाण ने कहा था कि कवि-नेता के बजाय महाराष्ट्र के रहने वाले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री मुकुल वासनिक को राज्य से संसद के उच्च सदन के द्विवार्षिक चुनावों के लिए मैदान में उतारा जाना चाहिए था। वासनिक को कांग्रेस ने राजस्थान से मैदान में उतारा है। पूर्व मुख्यमंत्री ने नागपुर में संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘वासनिक को राजस्थान से (राज्यसभा) टिकट मिला, जबकि उत्तर प्रदेश के नेता प्रतापगढ़ी को महाराष्ट्र से मैदान में उतारा गया है।” कांग्रेस नेता ने कहा कि वासनिक और प्रतापगढ़ी क्रमश: राजस्थान और महाराष्ट्र से अपना नामांकन पत्र वापस ले सकते हैं और वासनिक अपने गृह राज्य से नामांकन पत्र दाखिल कर सकते हैं।