Breaking News

आपका सरसों का तेल असली है या नकली? इन आसान तरीकों से जानिए सब कुछ विस्तार से

सरसों का तेल स्वाद और सेहत दोनों के लिए अच्छा माना जाता है। हालांकि अब बाजार में और भी कई खाद्य तेल उपलब्ध हैं, लेकिन आज भी देश के गांवों में सरसों का तेल मुख्य रूप से इस्तेमाल होता है। कई अध्ययनों में यह पाया गया है कि सरसों का तेल सेहत के लिए फायदेमंद होता है। इसलिए सरसों के तेल की मांग अधिक है, लेकिन हाल के दिनों में यह पाया गया है कि सरसों के तेल में मिलावट बढ़ी है। बाजार में उपलब्ध सरसों का तेल नकली तेल मिलाकर बड़ी मात्रा में बेचा जा रहा है। सरसों के तेल में हो रही ये मिलावट न सिर्फ खाने का स्वाद खराब कर रही है, बल्कि सेहत पर भी बुरा असर डाल रही है.

कई जांचों में पाया गया है कि इन दिनों सरसों के तेल में आर्गेमोन तेल और अन्य निम्न गुणवत्ता वाले तेलों की मिलावट की जाती है। जिससे इसकी पौष्टिकता, शुद्धता और गुणवत्ता का ह्रास होता जा रहा है। अगर आप सरसों के तेल में इस मिलावट से परेशान हैं तो तेल का इस्तेमाल करने से पहले यह जान लें कि यह शुद्ध है या मिलावटी। कुछ आसान तरीके अपनाकर आप घर पर ही सरसों के तेल की गुणवत्ता को पहचान सकते हैं। आइए जानते हैं नकली और असली सरसों के तेल की पहचान करने के तरीके।

सरसों का तेल परीक्षण

फ्रिज में तेल रखें

सरसों के तेल में मिलावट की पहचान के लिए आप इसका फ्रीजिंग टेस्ट कर सकते हैं। इसके लिए एक प्याले में थोड़ा सा सरसों का तेल निकाल लीजिए. इसे कुछ घंटों के लिए फ्रिज में रख दें। फिर इसे बाहर निकाल कर देखें, अगर तेल जमी हुई दिखाई दे, या सरसों के तेल में सफेद धब्बे दिखाई देने लगें, तो समझ लें कि तेल मिलावटी है.

शरीर का तेल

सरसों का तेल असली है या नकली यह चेक करने के लिए हाथ में थोड़ा सा तेल लेकर अच्छे से मलें। अगर तेल से कोई रंग या रासायनिक गंध आती है, तो तेल नकली है।

सरसों का तेल परीक्षण

बैरोमीटर परीक्षण

असली सरसों के तेल की शुद्धता बैरोमीटर के अनुसार होती है। तेल की बैरोमीटर रीडिंग 58 से 60.5 है। लेकिन अगर सरसों के तेल की रीडिंग निर्धारित मानक से अधिक है तो तेल नकली है। इसलिए जब भी आप तेल खरीदें और लाएं तो उसकी बैरोमीटर रीडिंग से पहचान लें कि तेल असली है या नकली।

सरसों के तेल के रंग में बदलाव

तेल का रंग बदलने का मतलब है कि उसमें मिलावट की गई है। आजकल सरसों के तेल में आर्गेमोन का तेल मिलाया जाता है। इस प्रकार के तेल में एक जहरीला पॉलीसाइक्लिक नमक होता है जिसे सेंग्युनारिन कहा जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *